By: Roshan Choudhary | October 31, 2014

लौह पुरुष सरदार बल्लभ भाई पटेल आ फिर इंदिरा गांधी इन दोनों में से आप किसे चुनोगे ?

मैं सरदार बल्लभ भाई पटेल को ही चुनुँगा, इसके कई कारण हैं !
१. लौह पुरुष स्वतंत्रता सेनानी हैं , इंदिरा नहीं !
२. लौह पुरुष ने पुरे देश को एक किया , इंदिरा का योगदान हैं लेकिन लौह पुरुष इतना नहीं , लौह पुरुष ने सभी राजाओ राजवारो के एक साथ लाकर सशक्त भारत का सपना सकार करने की दिशा में कदम बढाया
३. सरदार बल्लभ भाई पटेल परिवारवाद की वजह से देश के उप प्रधान मंत्री या गृह मंत्री नहीं हुए, जबकि इंदिरा गांधी अपने पिता की वजह से प्रधानमन्त्री बनी 
४.  पुण्य तिथि से जन्म दिन मनाना अधिक अच्छा हैं !

कांग्रेस के प्रश्नों का उत्तर 

भाई कांग्रेस के लोगो आपने क्या नेहरू गांधी परिवार से ऊपर उठकर किसी भी स्वतंत्रता सेनानी का या कांग्रेसी नेता का सम्मान किया (गांधी जी अपवाद हैं)
अगर आज प्रधानमंत्री मोदी जी लौह पुरुष सरदार बल्लभ भाई पटेल का सम्मान करना चाहते हैं "किये भी" आपको इतनी परेशानी क्यों हैं ? वो भी तो कांग्रेसी ही थे , आपको तो खुश होना चाहिये लेकिन नहीं आप खुश नहीं हो पा रहे हो क्योकि आपम अभी भी नेहरु गांधी परिवार के चमचागिरी करने वाल गुण विद्यमान हैं .
पूरा देश इस बीमारी से बाहर निकल गया और आप लोग हो जो निकल ही नहीं पा रहे हों ?
निश्चित रूप से इंदिरा गांधी ने भारत के लिए बलिदान दी हैं और देश भुला नहीं और भूलेगा भी नहीं , उन्होंने पंजाब का आतंक को पूरी तरह से मिटा दिया . 
लेकिन सिर्फ नेहरु गांधी परिवार से लोगो ने सहादत नहीं दी हैं , सहादत देने वालो में हमारे देश के लाखो लोग हैं और सभी को बराबर का सम्मान मिलना चाहिए , आपने तो सभी को भुला दिया ...
रौशन चौधरी

Comments:

Be the first to comment ...

Post a Comment